Homeअन्य खबरसावधान ! WhatsApp पर अगर आया है ऐसे मैसेज तो भूलकर भी न...

सावधान ! WhatsApp पर अगर आया है ऐसे मैसेज तो भूलकर भी न करे क्लिक, वरना बैंक खाता हो जाएगा खाली

WhatsApp में बैंकिंग से लेकर पेमेंट तक की फीचर्स आने के बाद ये ऐप ज्यादा सेंसिटिव हो गया है. यही वजह है कि अब आपका WhatsApp भी हैकर्स के निशाने पर है. आज हम आपको एक खास मैसेज से सावधान करना चाहते हैं. इसे लेकर लापरवाही आपके बैंक खाते को खाली कर सकता है.हमारी सहयोगी वेबसाइट India.com के मुताबिक साइबर क्रिमिनल WhatsApp के जरिए लोगों को फंसाने की कोशिश कर रहे हैं.

 

आपके WhatsApp पर पार्ट टाइम जॉब का ऑफर भेजा जाता है. इसमें झांसा देने के लिए बताया जाता है कि आप घर बैठे अपने मोबाइल से पार्ट टाइम जॉब (Part Time Job) करके पैसे कमा सकते हैं. इस जॉब में रोज सिर्फ 10-30 मिनट काम करके 200 रुपये से 3 हजार रुपये तक कमा सकते हैं. नए यूजर्स को 50 रुपये का बोनस भी मिलेगा. मैसेज में नीचे एक लिंक दिया गया है, जिस पर क्लिक करके जॉइन करने के लिए कहा गया है. इस पर क्लिक करते ही आप जालसाजी का शिकार हो जाएंगे.

 

ये भी पढ़ें – दुल्हन ने की दूल्हे की हत्या, बेडरूम में खून से लथपथ मिला शव, इलाके फैली सनसनी

 

मैसेज मिलने पर क्या करें?

अगर आपको वॉट्सऐप पर या किसी अन्य मैजेसिंग प्लेटफार्म पर इस तरह का मैसेज मिलता है, तो जिस नंबर से आपको मैसेज मिला है, उसे तुरंत ब्लॉक कर दें. साथ ही उस मैसेज को डिलीट कर दें, ताकि गलती से उसमें दिए लिंक पर क्लिक न हो जाए. जालसाजी वाला पार्ट टाइम जॉब का यह मैसेज ज्यादातर +212 कोड वाले नंबर से आ रहा है. ये मैसेज अलग-अलग नंबर्स से भेजे जा रहे हैं. अगर भारत के कोड +91 वाले नंबर से ऐसा मैसेज आता है, तो उसे भी इग्नोर कर दें. कभी-कभी जालसाज बड़ी कंपनियों के नाम से भी ऐसे मैसेज भेजते हैं, जिससे आपको सावधान रहना चाहिए. इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि फ्री में कुछ नहीं मिलता. ऐसे में अगर कोई मैसेज कुछ मिनट में हजारों कमाने का दावा कर रहा है, तो उसे नजरअंदाज करना ही हित में रहेगा.

 

कैसे होती है जालसाजी?

जालसाजी वाले मैसेज में शामिल लिंक आमतौर पर मैलवेयर (एक तरह का वायरस) होता है. लिंक पर क्लिक करते ही यह मैलवेयर (Malware) यूजर्स के फोन में इंस्टॉल हो जाता है. यह यूजर्स से उनके एटीएम पिन, कार्ड नंबर जैसे अन्य फाइनेंशियल डीटेल्स या पर्सनल डीटेल मांगता है. बाद में अवैध रूप से इस डेटा को यूज किया जाता है.

RELATED ARTICLES

Latest Post