बड़ी खबर : अब निजी अस्पतालों में भी फ्री होगा कोरोना का इलाज, इस राज्य के सरकार ने किया ऐलान
Spread the love

उत्तर प्रदेश – देश में कोरोना का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है. उत्तर प्रदेश की मथुरा जेल में बंद 52 और विचाराधीन कैदी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं. रविवार को सामने आई ताजा रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई है. अधिकारियों ने बताया कि इन कैदियों को क्वारंटीन में रखा गया है. उन्होंने बताया कि करीब 10 दिन पहले भी 46 विचाराधीन कैदी संक्रमित पाए गए थे. इस बीच, हाल ही में मथुरा के केएम मेडिकल कॉलेज में उपचार के लिए भर्ती कराए गए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के सदस्य व पत्रकार सिद्दीकी कप्पन की हालत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है.

 

ये भी पढ़े-पेट्रोल-डीजल के रेट जारी, जानिए- आज क्या हैं 1 लीटर पेट्रोल के दाम

 

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गौरव ग्रोवर ने कहा कि अधिकतर विचाराधीन कैदी जेल के कोविड देखभाल केंद्र में भर्ती हैं. हालांकि, बाकी जिन अस्पतालों में विचाराधीन कैदियों को भर्ती कराया गया है, वहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं.

 

तेज बुखार से मौत के बाद अंतिम संस्कार को लेकर विवाद

वहीं, उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में शुक्रवार को गोवर्धन कस्बे के एक मुहल्ले में व्यक्ति की तेज बुखार से मौत हो गई. इसके बाद उसके पड़ोसी केवल इस डर से अर्थी को कंधा देने नहीं पहुंचे कि कहीं व्यक्ति की मौत कोरोना से न हुई हो. ऐसे में मृतक की बेटी ने थाने पहुंचकर रोते हुए गुहार लगाई. इस पर इंस्पेक्टर सहित आधा दर्जन पुलिसकर्मियों ने उसके घर पहुंचकर अर्थी को न केवल श्मशान घाट तक पहुंचाया, बल्कि विधि-विधान पूर्वक अंतिम संस्कार सम्पन्न कराने तक उसका पूरा साथ दिया.

 

ये भी पढ़े-LPG Cylinder : गैस सिलेंडर पर मिल रहा है 800 रुपये तक का फायदा, ऐसे करे बुकिंग

 

थाना पुलिस के इस अच्छे काम की जानकारी पाकर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने भी हौसला अफजाई करते हुए गोवर्धन के प्रभारी निरीक्षक सहित पूरी टीम को प्रशस्ति देकर सम्मानित किया. पुलिस प्रवक्ता के अनुसार, यह मामला गोवर्धन थाना क्षेत्र का है. जहां एक व्यापारी शंकर लाल गर्ग की सामान्य बुखार के कारण मृत्यु हो गई.

By Editor