शख्स जिसकी है 16 बीवियों और 151 बच्चे, 66 की उम्र में करने जा रहा 17वीं शादी, तमन्ना है 100 शादी की, ऐसे होता है घर का गुजारा
Spread the love

अफ्रीका के देश जिम्बाब्वे में एक शख्स का जनसंख्या नियंत्रण या चाइल्ड प्लान जैसी चीजों से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं है क्योंकि ये शख्स अब तक 151 बच्चे पैदा कर चुका है. इस व्यक्ति की 16 पत्नियां हैं और ये जल्द ही 17वीं शादी भी करने जा रहा है. 66 साल के इस व्यक्ति की तमन्ना है कि वो 100 शादियां करे.

 

ये भी पढ़े-Radhe Movie Release : आज रिलीज होगी सलमान खान की फिल्म ‘राधे’, जानिए कब, कहां और कैसे देख सकेंगे

 

मिशेक न्यानदोरो नाम के इस व्यक्ति का दावा है कि वो कोई काम नहीं करता है और उसकी फुलटाइम जॉब अपनी पत्नियों को संतुष्ट करना है. इस शख्स का कहना है कि उसकी बूढ़ी पत्नियां उसकी सेक्स ड्राइव को मैच नहीं कर पाती हैं और उसे लगातार युवा महिलाओं से शादी करनी पड़ती है.

 

जिम्बाब्वे के मशोनालैंड सेंट्रल प्रांत के बायर जिले में रहने वाले मिशेक का कहना है कि वो मरने से पहले 1000 बच्चे पैदा करना चाहता है. इस शख्स ने अपने लिए एक शेड्यूल भी डिजाइन किया है. इस शेड्यूल के मुताबिक वो हर रात अपनी चार पत्नियों को शारीरिक तौर पर संतुष्ट करता है.

 

ये भी पढ़े-‘लॉकडाउन’ 31 मई तक बढ़ा, दूसरे लहर को नियंत्रण करने राज्य सरकार ने लिया बड़ा फैसला

 

स्थानीय न्यूज आउटलेट द हेराल्ड के साथ बातचीत में इस शख्स ने कहा मेरे पास कोई जॉब नहीं है. मेरा काम सिर्फ अपनी पत्नियों को खुश रखना है. 150 बच्चों के चलते मुझ पर किसी तरह का दबाव नहीं पड़ा है बल्कि इससे मुझे फायदा ही हुआ है क्योंकि मुझे हमेशा अपने बच्चों से गिफ्ट्स मिलते रहते हैं.

 

बता दें कि ये परिवार आमतौर पर खेती के जरिए ही अपना गुजारा करता है. इस शख्स के छह बच्चे जिम्बाब्वे की नेशनल आर्मी में काम करते हैं. 2 बच्चे पुलिस में काम करते हैं, 11 बच्चे इसके अलावा अलग-अलग प्रोफेशन्स में हैं. वही इस शख्स की 13 बेटियों की शादी हो चुकी है.

 

 इस शख्स ने साल 2015 में आखिरी बार शादी रचाई थी. लेकिन इसके बाद उसने कुछ समय के लिए मिशेक ने ब्रेक ले लिया था क्योंकि जिम्बाब्वे के हालात इकोनॉमिक स्तर पर काफी खराब हो चले थे लेकिन मिशेक एक बार फिर 2021 में अपनी 17वीं शादी की प्लानिंग कर रहा है.

 

ये भी पढ़े-बड़ी खबर : छत्तीसगढ़ में ब्लैक फंगस से पहली मौत, उपचार के दौरान तोडा दम, स्वास्थ्य महकमे की बढ़ी चिंता

 

गौरतलब है कि इस शख्स ने जिम्बाब्वे की आजादी के लिए साल 1964 से 1979 तक चले रोडेशियन बुश वॉर में हिस्सा लिया था और साल 1983 में इसने अपना प्रोजेक्ट शुरु किया था. जिम्बाब्वे को हुए जान-माल के नुकसान के बाद मिशेक ने फैसला किया था कि वो अपने देश की जनसंख्या को बढ़ाने में मदद करेगा.

By Editor