आखिरी समय में ‘नट्टू काका’ बेटे से पूछने लगे थे ये सवाल
Spread the love

तारक मेहता का उल्टा चश्मा (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah) में नट्टू काका का किरदार निभाने वाले घनश्याम नायक  के निधन के बाद से फैंस ‘नट्टू काका’ को बहुत मिस कर रहे हैं। नट्टू काका का किरदार निभाने वाले एक्टर घनश्याम नायक जब तक जीवित रहे वह शो तारक मेहता में वापसी करने के ही सपने देख रहे थे। इस बारे में उनके बेटे ने खुद बताया। कैंसर से जूझ रहे घनश्याम तिवारी अपनी बीमारी के चलते भी TMKOC के सेट पर आने की जिद पकड़े हुए थे। वह सेट पर आकर काम करना चाहते थे, नट्टू काका के किरदार को जीना चाहते थे।

 

ये भी पढ़े- 10 हजार रुपये सस्ते में खरीदें Samsung का यह शानदार 5G फोन, मिलेंगे कई बेहतरीन फीचर

 

मीडिया  से बातचीत के दौरान घनश्याम नायक के बेटे विकास नायक ने बताया कि ‘नट्टू काका’ के आखिरी पल कैसे बीते। विकास ने बताया कि उनके पिता को 9 कीमोथैरिपी सेशन से गुजरना पड़ा था। जिनमें से 5 कीमो थैरिपी साल 2020 में हुई थीं और बाकी चार इस साल हुई थीं। विकास ने बताया कि घनश्याम नायक के 30 रेडिएशन सेशन भी हुए थे। उन्होंने ये भी बताया कि जब घनश्याम नायक का ट्रीटमेंट चल रहा था उस वक्त तक उनकी हालत में सुधार हो रहा था। सबको उम्मीद थी कि वह घर वापस लौट आएंगे।

 

ये भी पढ़े- रेलवे में 2000 से अधिक पदों पर हो रही है भर्ती, 10वीं पास भी कर सकते हैं आवेदन

 

विकास ने आगे बताया कि – ‘इसी साल पापा के चेहरे पर सूजन आने लगी तो हमें लगा कि ये रेडिएशन की वजह से हुआ होगा। इस टेस्ट को दोबारा कराने पर हमें पता चला कि पापा के लंग्स में कैंसर फैल गया है।’

 

ये भी पढ़े- अमिताभ बच्चन ने पत्नी जया का नंबर इस नाम से किया है सेव, आज भी इस वजह से पड़ती है डांट

 

विकास ने आगे बताया कि ‘फिर पापा की हालत में थोड़ा सुधार हुआ तो उन्होंने तारक मेहता के सेट पर जाने की जिद पकड़ ली। इस बीच उन्होंने एक ऐड भी शूट किया था। फिर एक दिन दोबारा उनके कुछ टेस्ट हुए जिनमें सामने आया कि उनका कैंसर पूरी बॉडी में फैल चुका है।’ घनश्याम नायक के बेटे ने आगे बताया कि ‘2 अक्टूबर को पापा ने मुझे बुलाया और पूछा कि मैं कौन हूं? पापा भूल चुके थे कि वह कौन हैं, उन्हें कुछ याद नहीं था। मुझे उस वक्त अहसास हुआ कि पापा अब कुछ ही वक्त के मेहमान हैं।’ बताते चलें, घनश्याम नायक ने 3 अक्टूबर को इस दुनिया को अलविदा कह दिया था।

By Editor