शोले के 3 मिनट के इस सीन को शूट करने में लगे 3 साल, अमिताभ बच्चन ने बताई इसके पीछे की वजह
Spread the love

पॉपुलर शो कौन बनेगा करोड़पति 13 (Kaun Banega Crorepati) में  अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan0 ने शोले फिल्म (sholay movie) के एक सीन से जुड़ा बड़ा खुलासा किया है। जिसके बारे में हम आपको बता रहे हैं।’ दरअसल शो के प्रोमो में अमिताभ बच्चन ने फिल्म शोले के एक सीन को लेकर बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि कैसे शोले फिल्म के एक सीन के लिए तीन साल लग गए थे। वो सीन शोले फिल्म का पॉपुलर सीन है जिसमें जया बच्चन चिराग जला रही होती हैं और नीचे वे माउथ ऑर्गेन बजाते रहते हैं, इस सीन को शूट करने में तीन साल लग गए थे।

 

ये भी पढ़े- गलती से भी गूगल पर न करें इन चीजों को सर्च, वरना पड़ सकते है परेशानी में

 

3 मिनट के सीन को शूट होने में लगे 3 साल

 अमिताभ-जया का ये सीन महज 3 मिनट का था, लेकिन इसे पूरी तरह से शूट करने में 3 साल लग गए। अमिताभ ने सीन के बारे में बताया है कि इस सीन को शूट करने के लिए एक अलग लाइटिंग की जरूरत थी। हमारे डायरेक्टर सूर्यास्त के समय शॉट लेना चाहते थे। आपको विश्वास नहीं होगा कि रमेश जी ने इस सीन को शूट करने में 3 साल बिता दिए ताकि उन्हें परफेक्ट शॉट मिल सके।

शोले के 3 मिनट के इस सीन को शूट करने में लगे 3 साल, अमिताभ बच्चन ने बताई इसके पीछे की वजह

ये भी पढ़े- पालतू घोड़ी को बनाया हवस का शिकार, एक रात में 3 बार की घिनौनी हरकत, CCTV में हुआ रिकॉर्ड

 

फिल्म की ज्यादातर शूटिंग 35 एमएम में हुई

बता दें कि रमेश सिप्पी शोले को इंडिया की सबसे बड़ी फिल्म बनाना चाहते थे। 35 एमएम का फॉर्मेट फिल्म को बड़ा बनाने के लिए छोटा था, इसलिए तय किया गया था कि इसे 70 एमएम और स्टीरियोफोनिक साउंड में बनाया जाए। खबरों की मानें तो विदेशों से कैमरे मंगाकर शूटिंग करने से फिल्म का बजट काफी ऊपर जा रहा था इसीलिए फिल्म की ज्यादातर शूटिंग 35 एमएम में की गई और उसके बाद उसे 70 एमएम में ब्लोअप किया गया था।

 

ये भी पढ़े- Bank Holidays : इस सप्ताह 5 दिन बंद रहेंगे बैंक, यहां देखें छुट्टियों की पूरी लिस्ट

 

सिर्फ 20 लाख रुपए की कास्‍ट‍िंग थी

शोले का कुल बजट 3 करोड़ रुपए था। निर्देशक रमेश सिप्‍पी का कहना है कि आज इस फिल्‍म को बनाने में 150 करोड़ रुपए का बजट चाहिए। 100 करोड़ रुपए कम से कम स्‍टार कास्‍ट पर, जबकि उस समय सिर्फ 20 लाख रुपए में कास्‍ट‍िंग हो गई थी। बता दें कि पूरी फिल्म की शूटिंग कर्नाटक के बैंगलुरु और मैसूर के बीच स्थित पहाड़ियों से घिरे रामनगरम में हुई थी। यहां के एक गांव को रामगढ़ की शक्ल दी गई थी।

By Editor