जानिए क्यों बम की तरह फट जाते हैं स्मार्टफ़ोन? बचना है तो जान लें ये तरीके
Spread the love

स्मार्टफोन (Smart Phone) कंपनियां आए दिन लेटेस्ट टेक्नोलॉजी (technology) वाले फोन्स को बाजार में पेश करती रहती हैं। हर कंपनियों के स्मार्टफोन्स पहले के मुकाबले ज्यादा बेहतर होते हैं चाहें वो कैमरा, प्रोसेसर, रैम और बैटरी हो लेकिन, अभी भी स्मार्टफोन्स की बैटरी फटने की समस्या (battery burst problem) पूरी तरह से समाप्त नहीं हो सकी है।  हर किसी के मन में यह सवाल आता है कि आखिर स्मार्टफोन ब्लास्ट होने के पीछे की वजह क्या है। स्मार्टफोन ब्लास्ट होने से कैसे बचाव किया जा सकता है। यहां हम आपको इसकी पूरी जानकारी दे रहे हैं।

 

ये भी पढ़े- WhatsApp यूजर्स के लिए अच्छी खबर, अब तय कर सकते हैं DP किसे दिखेगी और किसे नहीं

 

स्मार्टफोन ब्लास्ट  होने का कारण

 

ओवरलोड: कई बार फोन में मल्टी-टास्किंग ऐप का इस्तेमाल करने और पब्जी जैसे दमदार गेम खेलने पर प्रोसेसर पर लोड बढ़ जाता है। इसकी वजह से स्मार्टफोन की बैटरी पर लोड पड़ता है और गर्म हो जाती है। ऐसी स्थितियों में फोन के ब्लास्ट होने की ज्यादा संभावना रहती है। इस दिक्कत से राहत पाने के लिए स्मार्टफोन में थर्मल लॉक फीचर दिया जा रहा है। मगर इसके बाद भी स्मार्टफोन ब्लास्ट हो जाता है।

 

मैन्युफैक्चरिंग डिफॉल्ट:

अधिकतर स्मार्टफोन ब्लास्ट होने के पीछे की वजह मैन्युफैक्चरिंग डिफॉल्ट होती है। हैंडसेट को शक्ति प्रदान करने के लिए लिथियम आयन बैटरी लगाने से पहले टेस्टिंग जरूरी है। अगर असेंबली लाइन कोई गलती होती है तो स्मार्टफोन की बैटरी ब्लास्ट हो सकती है। यह तब होता है जब बैटरी के अंदर की स्लिम वायर का टेंपरेचर अनुमानित टेंपरेचर से अधिक होता है। इससे शॉर्ट सर्किट होने पर ब्लास्ट हो जाता है।

 

 

थर्ड-पार्टी चार्जर: अधिकतर स्मार्टफोन ब्लास्ट होने की वजह थर्ड पार्टी चार्जर भी है। बहुत से लोग हैं जो दूसरी कंपनियों के चार्जर इस्तेमाल करते हैं तो यह बड़ी गलती होती है। हमेशा स्मार्टफोन को उसके साथ आए असली चार्जर से ही चार्ज करना चाहिए अगर चार्जर खराब होता है तो उसी कंपनी का असली चार्जर खरीद कर इस्तेमाल करना चाहिए।

 

असली चार्जर के अलावा दूसरा चार्जर इस्तेमाल करना नुकसानदायक हो सकता है। कोई भी दूसरी कंपनी का चार्जर उन स्पेसिफिकेशन से लैस नहीं होता है जो कि उस स्मार्टफोन के अनुकूल होती हैं। अक्सर लोकल और सस्ते चार्जर स्मार्टफोन को हीट कर देते हैं, जिससे इंटरनल कंपोनेंट्स खराब हो जाते हैं। इसी की वजह से स्मार्टफोन की बैटरी भी खराब हो सकती है।

 

स्मार्टफोन का कवर: स्मार्टफोन का कवर ठीक न होने की वजह से उसके अंदर की हीट बाहर नहीं निकलती है और फोन ओवरहीट हो जाता है। अगर आपका फोन का कवर उसकी हीटिंग को बढ़ा रहा है तो उसे तुरंत बदल दीजिए, क्योंकि इससे स्मार्टफोन ब्लास्ट होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

 

कैसे करें बचाव: अगर आप चाहते हैं कि आपका स्मार्टफोन ब्लास्ट न हो तो उसके लिए सबसे ज्यादा बैटरी पर ध्यान देना होगा। अगर स्मार्टफोन की बैटरी फूल रही है या फिर उससे आवाज आ रही है तो यह बैटरी ब्लास्ट होने के संकेत हैं।

 

ये भी पढ़े- आयकर विभाग में 10वीं पास के लिए निकली भर्ती, आवेदन की अंतिम तिथि नजदीक

 

इसी के साथ फोन को सूरज की रोशनी में डायरेक्ट न रखें, क्योंकि इस फोन गर्म होगा और हीट बढ़ने से ब्लास्ट हो सकता है। फोन को कई लोग चार्जिंग पर लगाकर छोड़ देते हैं तो ऐसे में लंबे समय तक उसे चार्जिंग पर न लगा रहने दें, क्योंकि इससे बैटरी पर लोड बढ़ता है और फोन के ब्लास्ट होने के चांस भी बढ़ते हैं।

By Editor