नए साल में Google पर भूलकर भी ना सर्च करें ये 5 चीजें, जाना पड़ सकता है जेल
Spread the love

ये बात किसी से छिपी नहीं है कि Google दुनिया का सबसे बड़ा सर्च स्टेशन है. Google अपने यूजर्स को स्वतंत्र रूप से कुछ भी सर्च करने की सुविधा देता है. लेकिन कम ही लोगों को पता है कि Google अपनी सिक्योरिटी पॉलिसी को लेकर काफी सतर्क है और इसको लेकर वो समय समय पर अपनी नीतियों में बदलाव भी करता रहता है. ऐसे में यूजर्स को नए साल 2022 में भूलकर भी गूगल पर इन 5 चीजों को नहीं सर्च करना चाहिए। वरना आपको भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। आइए जानते हैं विस्तार से-

 

ये भी पढ़े-शानदार ऑफर ! सिर्फ 5 हजार में ऐसे घर ले जाएं Vivo का धाकड़ 5G स्मार्टफोन

चाइल्ड पोर्न

भारत सरकार चाइल्ड पोर्न को लेकर काफी सख्त है। इसके बावजूद अगर आप गूगल पर चाइल्ड पोर्न सर्च करते हैं, तो आपको जेल जाना पड़ सकता है, क्योंकि ऐसा करना गैरकानूनी है। पास्को एक्ट 2012 के सेक्शन 14 के तहत चाइल्ड पोर्न देखने को शेयर करना और उसे बनाना कानूनन अपराध है। ऐसा करने वाले व्यक्ति के लिए न्यूनतम 5 साल और अधिकतम 7 साल तक की सजा का प्रावधान है।

 

ऑनलाइन ट्रोलिंग

किसी भी छेड़छाड़ या दुर्व्यवहार पीड़िता के नाम और उसकी फोटो को शेयर करना गैरकानूनी है। सुप्रीम कोर्ट की तरफ से किसी भी छेड़छाड़ या दुर्व्यवहार पीड़िता के नाम और फोटो को उजागर करना गैरकानूनी करार दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट के जजमेंट के मुताबिक ‘कोई भी व्यक्ति प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक या सोशल मीडिया आदि किसी भी प्लेटफॉर्म से छेड़छाड़ या दुर्व्यवहार पीड़िता की पहचान ज़ाहिर नहीं कर सकता। ऐसे में भूलकर भी सोशल मीडिया या किसी अन्य प्लेटफॉर्म पर छेड़छाड़ या दुर्व्यवहार पीड़िता के नाम और फोटो को ना डालें, नहीं तो आपको जेल जाना पड़ेगा।

 

फिल्म पाइरेसी

रिलीज से पहले ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर किसी भी फिल्म को लीक करना या फिर पाइरेसी फिल्म को डाउनलोड करना अपराध है। पीएम मोदी सरकार में यूनियन कैबिनेट ने सिनेमेटोग्राफी एक्ट 1952 में संशोधन मंजूर कर लिया है। कैबिनेट के नए फैसलों में फिल्म पाइरेसी को अब एक गंभीर अपराध माना जाएगा। ऐसा करने पर कम से कम 3 साल की सजा और 10 लाख रुपये जुर्माना देना होगा। इस कानून के दायरे में वो लोग भी आएंगे, जो सिनेमाघरों में फिल्म की रिकॉर्डिंग करते हैं या ऐसी रिकॉर्डिंग का कारोबार करते हैं।

 

गर्भपात कैसे करें

गूगल पर गर्भपात करने के तरीके गलती से भी ना सर्च करें। बिना डॉक्टर की इजाजत के गर्भपात करना गैरकानूनी है। कई मामले सामने आए हैं, जिसमें सुप्रीम कोर्ट से गर्भपात कराने की मांग की है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट की तरफ से किसी बीमाीर से ग्रसित महिला को डॉक्टर की सलाह से गर्भपात की इजाजत दी है। ऐसे में ऑनलाइन सर्च करके गर्भपात की विधि ना ढ़ूढ़ें, नहीं तो जेल जाना पड़ेगा।

 

प्राइवेट फोटो और वीडियो

Google या किसी अन्य प्लेटफॉर्म पर बिना इजाजत निजी फोटो या वीडियो को शेयर करना अपराध है। ऐसा करने वाले व्यक्ति के लिए सजा का प्रावधान है। साइबर क्राइस की धारा के तहत निजी फोटो और वीडियो शेयर करने पर जेल जाना पड़ सकता है।

 

ये भी पढ़े-जानिए सलमान खान हाथ में क्यों पहनते हैं ब्रेसलेट, क्या है इसकी खासियत, खुद किया खुलासा

By Editor